तकनीक या शिक्षा भारत के सामने कहीं नहीं टिकता पाकिस्तान, यहां की 80% आबादी गरीब

भारत और पाकिस्तान के बीच अघोषित युद्ध जारी है। गरीबी से जूझ रहा पाकिस्तान तकनीक और शिक्षा में पिछड़ा है। एक रिपोर्ट के अनुसार शैक्षणिक संस्थानों में  2000 से 2008 के बीच 82 और 2009 से 2013 तक 642 हमले हुए हैं। अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान में 2.25 करोड़ बच्चे अब भी स्कूल नहीं जाते हैं। इनमें ज्यादातर लड़कियां हैं। जानिए पाकिस्तान के मौजूदा हालातों के बारे में…

एजुकेशन : शिक्षा के क्षेत्र में 50 साल पिछड़ा है पाक; यूएन रिपोर्ट

  1. ''
    • बच्चों को प्राथमिक शिक्षा देने के मामले में पाकिस्तान बेहद पिछड़ा देश है। इस पर टिप्पणी करते हुए युनाइटेड नेशनल की एक रिपोर्ट के कहा गया है कि पाकिस्तान प्राथमिक शिक्षा के मामले में 50 साल से भी अधिक पीछे है।
    • यूनाइटेड नेशन ग्लोबल एजुकेशन रिपोर्ट 2016 के मुताबिक, 56 लाख बच्चे तो प्राथमिक स्कूलों की पहुंच से ही दूर हैं। अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान में 2.25 करोड़ बच्चे अब भी स्कूल नहीं जाते हैं। इनमें ज्यादातर लड़कियां हैं।
    • पाकिस्तान में शैक्षणिक संस्थानों पर हमले भी बहुत अधिक संख्या में होते हैं। वॉशिंगटन की एक रिपोर्ट के अनुसार 2000 से 2008 के बीच 82 हमले हुए जबकि 2009 से 2013 तक 642 हमले हुए हैं।
  2. करप्शन : 180 देशों में से 117वें स्थान पर

    ''

    पाकिस्तान भले ही कितना ईमानदारी का दावा करें लेकिन वैश्विक स्तर पर भी इसकी छवि नकारात्मक ही है। इसका उदाहरण है वैश्विक भ्रष्टाचार सूचकांक 2018। हाल ही में भ्रष्टाचार-निरोधक की ओर से जारी हुए वार्षिक सूचकांक के मुताबिक भ्रष्टाचार के मामलों में पाकिस्तान 117वें नंबर पर है जबकि भारत 78वें पर है। देश में कई बार भ्रष्टाचार के विरोध में जुलूस भी निकाले जा चुके हैं।

  3. गरीबी : पाकिस्तान की 80 फीसदी आबादी गरीब

    ''

    वर्तमान में पाकिस्तान बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, शहरों के मुकाबले पाकिस्तान के गांवों की 80 फीसदी आबादी गरीब है और 62 फीसदी ग्रामीण आबादी गरीबी रेखा से भी नीचे जीवन यापन कर रही है। आलम यह है कि सरकार को खर्च चलाने के लिए भैंस और कारों की नीलामी भी करनी पड़ी थी।

  4. तकनीक : पाकिस्तान के 69% लोगों को नहीं पता क्या है इंटरनेट

    ''

    श्रीलंका की संस्था लर्ने एशिया के सर्वे में पाया गया कि पाकिस्तान में करीब 69 प्रतिशत लोगों को इंटरनेट की न तो कोई जानकारी है और न ही कभी उन्होंने इसका इस्तेमाल किया है। यह सर्वे पाकिस्तान में अक्टूबर-नवंबर 2017 में कराया गया था। सूचना संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में शोध करने वाली संस्था लर्न एशिया के सर्वे के मुताबिक, 15 से 65 वर्ष की आयु वाले लोगों के बीच कराए गए सर्वे में सामने आया कि पाकिस्तान में स्मार्ट फोन इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या महज 22 फीसदी है।

  5. गधों के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर

    ''

    हाल ही में पाकिस्तान के ‘जियो’ न्यूज चैनल एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में गधों की तादाद के मामले में पाकिस्तान तीसरे नंबर पर है। ‘लाइफस्टॉक पंजाब’ के मुताबिक, पाकिस्तान गधों की संख्या के मामले में दुनिया का तीसरा बड़ा देश बन चुका है। सिर्फ लाहौर में गधों की संख्या 41 हजार से ज्यादा हो चुकी है। इसलिए गधों को बीमारी से बचाने के लिए प्रशासन ने एक अस्पताल खोल दिया है, जहां गधों का निशुल्क इलाज किया जाएगा।